प्राणायाम द्वारा गर्मी से राहत पाएं।




गर्मी के मौसम में तेज धूप, पानी की कमी और लू  से इंसान से लेकर पक्षी तक परेशान है। घर से बहार निकलने से पहले आपने आप को अच्छे से ढकना पड़ता है, खासकर सिर को।  वरना लू लगने और हैजा होने का खतरा रहता है।  साल दर साल गर्मी का सतर बढ़ रहा है। ऐसी भयंकर गर्मी में अपने आप को ठंडा और सवस्थ रखना भी एक चेलेंज बन जाता हैं।  इस मौसम में  बच्चों की सेहत की तरफ भी सजग रहना होता है। सभी उम्र के लोगो पर गर्मी अपना असर दिखती है।  सरीर में कहीं पानी की कमी न हो जाय  इस बात का भी ख़ास ख्याल रखना पड़ता हैं।
गर्मी एक  ऐसा मौसम है जो हमें एक जगह टिकने नहीं देता । कूलर और ऐसी के आगे तो हम लोग अच्छा महसूस करते हैं. पर जैसे ही उनसे दूर होते हम गर्मी से परेशान होने लगते हैं। ओर जब घर से बहार निकलते हैं,और जब घर वापस आते हैं तब तक गर्मी से बुरा हाल हो जाता । गरमी की वजह से सर फटने लगता हैं। जब घर से बहार होते हैं तब गर्मी से बचने के लिए  कुल्फी खाते या क्लोड़ड्रिंक पितें हैं.  लेकिन ऐसी चीजें हमें सिर्फ कुछ मिंटो के लिए ही ठंडा रखती हैं ये सिर्फ हमें ठंडा महसूस करवाती है असल में करती नहीं है।



अगर आपका  सरीर गरम होगा तो बीमार होने का ख़तरा बढ़ जायगा और लू भी लग सक ती हैं  ऐसी सिचुएशन से बचने के लिए आप क्या करेंगे  कूलर और ऐसी से दूर आप अपने आप को कैसे ठंडा रखेंगे? लेकिन आपको  जयादा सोचने की जरूरत  नहीं है योग में तीन ऐसे प्राणायाम हैं जो आप को गर्मी के मौसम में  भीतर से ठंडा रखेंगे और साथ ही साथ ये आपको गर्मी की और बिमारियों और परेशानियो जैसे- हैजा,दस्त,सरीर का तापमान बढ़ना अदि समस्यों   से भी बचायेंगे और आप का दिमाग शांत रहेगा और आप प्रसन्न रहेंगे।

आप जानेंगे:

1.ये प्राणायाम कोनसे हैं?

2.इनके लाभ क्या-क्या हैं?

3.ये तीनों प्राणायाम करने की  विधि क्या है?


१. ये तीन प्राणायाम है सितकारी, शीतली और चन्द्रभेदी प्राणायाम। ये गर्मी से बचने के लिए बहुत ही जबरदस्त हैं। ये प्राणायम जो लाभ नीचे बताये गए हैं, उनसे भी  जयादा लाभकारी हैं। जो बताये गए हैं वो इनके प्रमुख लाभ हैं


2.1.सीत्कारी के लाभ :


1.सीत्कारी प्राणायाम शरीर को ठंडा करता है।

2.इससे भूख लगती है और प्यास बुझती है।

3.इससे आलस्य दूर होता है और पित्त वृद्धि रूकती है।

4.मुंह की बिमारियां ठीक होती है और चेहरे का सोंदर्य बढ़ता है।


2.2 शीतली प्राणायाम के लाभ:

1.शरीर  को  ठंडा करता  है और रक्त शुद्ध होता है। मन भी शांत होता है।

2.चर्म रोग, अजीर्ण और कब्ज जैसे रोग मिटते हैं।

3. उग्र  स्वभाव वालो के लिए काफी लाभदायक​ है।

4.गले के रोग मिटते हैं ।

3.3 चंद्र भेदी  प्राणायाम  के लाभ:


1.हाई ब्लड प्रेशर में लाभ होता है।

2.सीने की जलन में फायदेमंद है।

3.मन स्थिर होता है।

4.मानसिक चिंता कम होती है।

3.तीनों प्राणायाम करने की विधि:



तीनों प्राणायाम करने की विधि नीचे दिए गए विडियो में बताई गई है।आप उससे सीख सकते हैं। कृपया ध्यान दें यह विडियो बस आपको सिखाने के लिए है।






निश्चित तोर पर ये प्राणायम करने पर आपको लाभ मिलेगा । इनमे जयादा सावधानी की आवसयकता नहीं  पड़ती है।  आप बड़े ही आसानी से इनको कर सकतें हैं। सीत्कारी और शीतली प्राणायाम बच्चे  भी आसानी से कर सकते हैं। अगर आप ये प्राणायम सुबह के समय नहाने के बाद करते हैं तो और भी अछी बात हैं।  आप सीतली और  शीतकारी प्राणायाम दिन के बाद समय में  भी कर सकतें  हैं।




मैं उम्मीद करता हूं यह जानकारी आपके​ लिए काफी फायदेमंद होगी।

अगर कोई सुझाव हो तो उसे शेयर करे।
नमस्ते।

Post a Comment

2 Comments

  1. The good news is, teacher training is really open to all. In it, you'll dive into all the details of the practice, ranging from Best Yoga Teacher Training in India anatomy and asana to philosophy, and also, get prepared for the real world of teaching yoga.

    ReplyDelete