तीन ऐसे प्राणायाम जो आप हर रोज कर सकते हैं ।


योग आसनों  के साथ साथ अगर हम प्राणायाम भी करें तो हमारे सरीर को बहुत ही लाभ पहुँच ता है।  प्राणायम करके हम पूरी तरह से रोग मुक्त हो सकते हैं।  प्राणायम जैसे  कपालभाति,  इकलौता ऐसा प्राणायम जो सभी बिमारियों को ठीक करने का दम  रख ता है।  जब हम कपालभाती प्राणायम करतें  तब हमारे पुरे शरीर में कम्पन  होता है। इस कम्पन से  जोकुछ भी हमारे शरीर में  अनावशयक चीजे जमा रहती वे धका  लगने से शरीर से बहार आना शुरू हो जाती  है।  हमारा खून अच्छे  से सेर्कुलेट होना शुरू हो जाता है।  हमारे  ग्लैंड्स पूरी तरह से एक्टिव होकर  अच्छे से काम करना शुरू कर देतें। जिस से हमार स्वस्थ  बहुत अच्छा हो जाता है।

अनुलोम विलोम प्राणायाम भी बहुत ही लाभकारी प्राणायाम  है।  इस प्राणायम से सभी तरह की  रेस्पिरेटरी  प्रोब्लेम्स यानि शावश संमंधी बीमारियां ठीक हो जाती है। इस प्राणायाम के करने से हमारे सरीर में जयादा से ज्यादा प्राण वायु  हमारे अन्दर  जाती है जिस से हमारा रक्त शुद्ध होता है।  यह प्राणायाम हमारे मुखमण्डल, आँखों और दिमाग के लिए बहुत ही लाभ दायक है।  साथ ही साथ यह प्राणायाम हमें आध्यात्मिक ऊर्जा भी प्रदान करता है।  इस प्राणायम से हमारी  दिमागी शक्ति  बढ़ती  है।

प्राणायामों में एक और खास प्राणायाम है वो है भ्रामरी प्राणायाम। यह अपने तारिके का अनूठा प्राणायम है।  इस प्राणायाम में हम जब नाक से शवास निकाल ते हैं तब ओंकार की धवनि निकल ती है।  उस ओमकार की धवनि से हमें  बहुत ही लाभ प्राप्त होते है।  धयान के लिए यह प्राणायम सबसे उतम है।

अभी ऊपर जिन प्राणायमों की हमने बात की वो ऐसे प्राणायाम है जिनको आप हर  रोज यानी सभी ऋतुओं मे कर सकते है। ये आसान और बहुत ही लाभकारी प्राणायाम  हैं।आपको इसमे विधि भी मिलेगी और प्राणायाम का वीडियो भी मिलेगा। अगर आप इनको करना नहीं जानते है तो आप विधि को पढ़कर और वीडियो देखकर सीख सकते हैं।
1.अनुलोम विलोम प्राणायाम।
करने की विधि :

1.सबसे पहले पदमासन या सिध्दासन मे बैठ जाए।

2.अब दांयी या बांयी किसी एक तरफ की नाक से श्वास भरे।श्वास जितनी देर रोक सकते हैं उतनी देर रोंके (अगर नहीं रोकना हो तो भि कोई बात नहीं)। फिर दूसरी नासिका छिदृ से सांस बहार निकाल दें।

3. फिर  जिस नाक छिदृ से श्वास निकाला था उसी से नाक श्वास लेकर, रोक कर दुसरी नासिका छिदृ से श्वास बहार निकाले। इसी तरह इसको दोहराएं।

4.ध्यान रखें श्वास निकालने का समय श्वास लेने के समय से दुगना होना चाहिए।
विडिओ:



2.कपालभाति प्राणायाम।
करने की विधि:

1.पदमासन या सिध्दासन मे बैठ जांए।

2.कमर और गर्दन को सीधा करें । हाथ घुटनो पर रखे और शरीर को एकदम सीधा रखें।

3.अब अपनी ताकत के अनुसार नाक से श्वास छोडें और लें।.

4.ध्यान रखें कंधे न हिलाएं। सिर्फ पेट अदंर बाहर होना चाहिए।


विडियो:



3.भ्रामरी प्राणायाम।
करने की विधि:

1. पदमासन या सिध्दासन मे बैठे ।

2.फिर नाक से लंबी गहरी सांस ले।

3.अब अंगुठों से दोनों कानो को बंद कर दें। और दोनों इन्डेक्स फिंगर को शिर पर रखें। शेष अंगुलियां आखों पर रखें।

4.अब सांस को नाक से भ्रमर की ध्वनि के साथ बाहर निकालें।


विडिओ:




अगर आप सिर्फ ये  तीन प्राणायम हर रोज करते हैं तो आप को बहुत लाभ होगा।  रिजल्ट आप खुद कर के देख  सकते हैं। अगर आप  ये तीनो प्राणायम करना जानते हो तो आप अपने दोस्तों और परिवार को भी बता सकते हो उनको भी लाभ होगा।


में उम्मीद करता हूँ विडियोस के साथ आप को समझने में काफी मदद मिली होगी। अगर आप योग सिखना तो आप विडिओ के चैनल  पर जा सकते हैं।  और अगर ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करें ।

पढ़ने के लिए धन्यवाद।?



Post a Comment

0 Comments